वित्तविहीन शिक्षकों को भी मिले राजकोष से मानदेय

वित्तविहीन शिक्षकों को भी मिले राजकोष से मानदेय

संवादसूत्र,असोहा:शनिवारकोकालूखेड़ास्थितमांशारदामहाविद्यालयकेछठवेंस्थापनादिवसपरपहुंचेशिक्षकएमएलसीराजबहादुरचंदेलनेवित्तविहीनशिक्षकोंकोभीसरकारीमदसेमानदेयदेनेकीमांगकी।उन्होंनेकहाआजकेयुगमेंलोकतंत्रकेदोस्तंभोंमेंभ्रष्टाचारव्याप्तहोचुकाहै।इसेजल्दसमाप्तनकियागयातोदेशएकबारफिरगुलामीकीओरबढ़जाएगा।

स्थापनादिवसपरएमएलसीराजबहादुरचंदेलनेअपनीनिधिसेनिर्मितविद्यालयप्रांगणमेंबनेएककमरेकाउद्घाटनकिया।उसकेबादबच्चोंकोसंबोधितकरतेहुएकहाआजकेयुगमेंराजनीतिपैसाऔरदिखावेकामाध्यमबनगईहै।जबकि,पहलेलोगसमाजसेवाकेलिएराजनीतिकरतेथे।उन्होंनेकहाअगरसांसद,विधायकऔरएमएलसीकीनिधिसंयुक्तरूपसेजिलेपरआएऔरसाथबैठकरकामकराएजाएतोविकासज्यादाअच्छेतरीकेसेहोसकताहै।उन्होंनेकहाकिवित्तविहीनशिक्षकोकोसरकारनेअपनेराजकोषसेकुछमानदेयजरूरदेनाचाहिए।इससेवोभीअपनाभरणपोषणसहीसेकरसके।कार्यक्रममेंपहुंचेपूर्वविधायकउदयराजयादवनेकहाशिक्षाकेलिएहमनेब्लाकमेंमहाविद्यालयऔरराजकीयविद्यालयबनवाए।इससेबच्चोंकोआसानीसेशिक्षामिलसके।स्थापनादिवसपरबच्चोंनेसांस्कृतिककार्यक्रमप्रस्तुतकरउपस्थितलोगोंकामनमोहलिया।प्रबंधकआरपीवर्मानेअतिथियोंकाअंगवस्त्रभेंटकरस्वागतकिया।इसदौरानब्लाकप्रमुखबीतेंद्रयादव,देवस्वरूपत्रिवेदी,रमेशकुमार,सुरेंद्रसिंह,संतोषगुप्ता,पूर्णिमासिंह,कुलदीप,सुधामिश्रा,विमलेशआदिमौजूदरहे।कार्यक्रमकासंचालनराजारामयादवनेकिया।