औद्योगिक कामकाज को प्रभावित कर सकती है कर्मचारियों की कमी

औद्योगिक कामकाज को प्रभावित कर सकती है कर्मचारियों की कमी

जागरणसंवाददाता,गुरुग्राम:साइबरसिटीकेउद्यमियोंकाकहनाहैकिइसबातकीसंभावनासेइनकारनहींकियाजासकताकिआनेवालेसमयमेंउद्योगोंकोश्रमिकोंकीकमीकीसमस्यासेजूझनापड़ेगा।लॉकडाउनशुरूहोनेसेपहलेऔरउसकेबादगुरुग्रामसेलगभगपांचलाखश्रमिकोंकेअपनेराज्यजानेकीबातकहीजारहीहै।

उद्यमियोंकाकहनाहैकिअभीभीदूसरेराज्योंकेश्रमिकोंकोयहांसेउनकेराज्यभेजाजारहाहै।इससेभीचिताबढ़ीहै।फिलहालबड़ीऔद्योगिकइकाइयोंकेलिएदिक्कतनहींहै,क्योंकिउनकेपासनियमितकर्मचारीबड़ीसंख्यामेंहैं।अभीगुरुग्रामसेजिनश्रमिकोंकाअपनेराज्यजानाहुआहै,उनमेंठेकेपरकामकरनेवालोंकीसंख्यासबसेअधिकहै।

गुड़गांवउद्योगएसोसिएशनकेअध्यक्षप्रवीणयादवकाकहनाहैकिगारमेंटक्षेत्रकीफैक्टरियोंमेंऐसेकर्मचारियोंकीसंख्याअधिकहै।

उद्यमीपरमजीतसिंहकाकहनाहैकिलॉकडाउनकेबादकर्मचारीलौटेंगेयानहीं,इसपरकाफीकुछनिर्भरहै।औद्योगिकइकाइयोंकेसमक्षश्रमिकोंकासंकटआतादिखाईदेरहाहै।

जोफैक्टरियांखुलरहीहैंउन्हेंइसकातुरंतआभासनहींहोगा,क्योंकिअभीसीमितकर्मचारियोंकेसाथहीकामकरनाहै।जैसे-जैसेऑर्डरबढ़ेंगेकर्मचारियोंकीजरूरतबढ़गीतबइन्हेंहासिलकरनाकाफीमुश्किलहोजाएगा।गारमेंटएवंऑटोमोबाइलइंडस्ट्रीकीबातकरेंतोलगभग40फीसदकर्मचारीअपनेराज्यकोलौटचुकेहैं।

सत्येंद्रसिंह,अध्यक्षप्रवासीएकतामंच,गुरुग्रामएवंमहाप्रबंधक,ईस्टएंडवेस्टएक्सपोर्ट

लॉकडाउनसेपहलेऔरउसकेबादबड़ीसंख्यामेंऔद्योगिकश्रमिकोंकाउनकेमूलनिवासजानाहुआ।अबयहांरहरहेश्रमिकोंकोसरकारद्वाराउनकेराज्योंमेंभेजाजारहाहै।इससेऔद्योगिकइकाइयोंकेसमक्षश्रमिकसंकटखड़ाहोनेवालाहै।इसकाविपरीतप्रभावहरसेक्टरकीइंडस्ट्रीकोहोगा।सबसेअधिकपरेशानीगारमेंट,ऑटोमोबाइलएवंरियलएस्टेटइंडस्ट्रीकोहोगी।सबसेअधिकअपनेराज्यजानाकांट्रैक्टपरकामकरनेवालेश्रमिकोंकाहुआहै।

कुलदीपजांघू,श्रमिकनेता